छात्रों की आत्महत्या का कारण और दोष
छात्रों की आत्महत्या का कारण और दोष

मित्रों, हम सब का देश आज स्वतंत्र गणतन्त्र है जहाँ एक संवैधानिक लिखित व्यवस्था के तहत सबको जीवन जीने के समान और सम्मान के सम्मानित अधिकार ...

Read more »

घर ही स्कूल क्यों न बने!
घर ही स्कूल क्यों न बने!

री तेश जोशी-काल्पनिक नाम-की खुद की मेडिकल ट्रांसक्रिप्शन की एक कंपनी है। विवाह के कई वर्ष बाद उनकी जब बेटी हुई तो उन्हें लगा कि अब...

Read more »

बेसिक शिक्षा विभाग में कुशल प्रबंधन की कमी
बेसिक शिक्षा विभाग में कुशल प्रबंधन की कमी

          ह र शैक्षिक संस्था का एक अनुशासन होता है साथ ही एक मजबूत प्रबंध तंत्र होता है विद्यालय का प्रधानाचार्य ही तय करता है कि विद्...

Read more »

कमी से बेहाल शिक्षा जगत
कमी से बेहाल शिक्षा जगत

यह विडंबना है कि एक ओर सरकार शिक्षा में सुधार के लिए प्रतिबद्धता जता रही है वहीं शिक्षण संस्थानों में अध्यापकों की भारी कमी से शिक...

Read more »

चेहरा बदलें सरकारी स्कूलों का
चेहरा बदलें सरकारी स्कूलों का

अ गस्त 2015 में लोगों को लगा था कि अब कोई क्रांति आने वाली है, क्योंकि इलाहबाद हाईकोर्ट ने कह दिया था कि अफसरों व नेताओं के बच्चे सर...

Read more »

यह पढ़ाई है या मोर्चे पर लड़ाई
यह पढ़ाई है या मोर्चे पर लड़ाई

अलग-अलग बोर्ड के दसवीं-बारहवीं के इम्तेहान सर पर आ गए हैं। 90 प्रतिशत से ऊपर अंक लाने की चिंता करने वालों का खून आहिस्ता-आहिस्ता...

Read more »

मैं पुरानी पेंशन हूँ
मैं पुरानी पेंशन हूँ

मैं पुरानी पेंशन, जीवनपर्यंत एक सामाजिक प्राणी की पूर्ण निष्ठा , ईमानदारी से की गयी सेवा के उपरान्त अंत में उसकी आजीविका को चलाने हेतु प्...

Read more »

शिक्षक और अभिभावक के संवादहीन संबंध
शिक्षक और अभिभावक के संवादहीन संबंध

अ क्सर मुख्यधारा के स्कूलों में अभिभावकों और शिक्षकों के बीच पैरेंट्स-टीचर्स मीटिंग के नाम पर कभी-कभार जो मुलाकातें होती हैं, वे न ...

Read more »

बच्चों को गढ़ना ज्यादती नहीं
बच्चों को गढ़ना ज्यादती नहीं

ए क पार्टी में गई थी, वहां अन्य मेहमान भी आए हुए थे। उस पार्टी में आए सभी लोगों ने दंगल फिल्म देखी थी, वैसे यह काफी विचित्र बा...

Read more »

शिक्षक और छात्र कैसे चलें साथ-साथ
शिक्षक और छात्र कैसे चलें साथ-साथ

कॉ लेज में एमए के आखिरी वर्ष में पढ़ने वाली उस छात्रा के आंसू थम ही नहीं पा रहे थे। उसकी समस्या यह थी कि उसके एक वरिष्ठ शिक्ष...

Read more »

जूते पहनने की शिक्षा वाले बच्चों के स्कूल
जूते पहनने की शिक्षा वाले बच्चों के स्कूल

जूते उस पश्चिमी शिक्षा प्रणाली से बाहर हो रहे हैं, जिस प्रणाली ने हमारे बचपन में जूतों की घुसपैठ कराई थी। ब्रि टेन के डर्बी में फि...

Read more »

चाक की लड़ाई
चाक की लड़ाई

मीना की दुनिया - रेडियो प्रसारण एपिसोड - 62 आज की कहानी का शीर्षक - “चाक की लड़ाई”        मीना और सुमी मिट्ठू को ..............

Read more »
 
 
 
Top