सभी बोर्डों के पाठ्यक्रम अलग, शिक्षक का स्तर अलग, सुविधाएं अलग, सरकारी बजट प्रावधान अलग, फिर सामाजिक समानता का खोखला नारा किसलिए?
सभी बोर्डों के पाठ्यक्रम अलग, शिक्षक का स्तर अलग, सुविधाएं अलग, सरकारी बजट प्रावधान अलग, फिर सामाजिक समानता का खोखला नारा किसलिए?

शिक्षा समाज की आत्मा है। आत्मा दूषित न हो इस बात का ध्यान समाज के प्रत्येक व्यक्ति को रखना है। संस्थाओं को मंदिर-मस्जिद के समतुल्य ...

Read more »

निजी स्कूलों पर लगाम लगाने की जरूरत
निजी स्कूलों पर लगाम लगाने की जरूरत

निजी स्कूलों की फीस एक राष्ट्रीय समस्या बन चुकी है, जिसका निदान होना ही चाहिए।  वह बच्चा नौवीं पास करके अपने ही स्कूल में दसवीं में ...

Read more »

आत्ममुग्ध शिक्षक संघ
आत्ममुग्ध शिक्षक संघ

शिक्षक संघ शिक्षकों की समस्याएँ उठाने और उनका निस्तारण करवाने के सबसे सशक्त माध्यम हैं। संघे शक्ति कलियुगे का सूत्र वाक्य अपनाने वाले संघो...

Read more »

एक नन्ही चिड़िया... मिशन शिक्षण संवाद
एक नन्ही चिड़िया... मिशन शिक्षण संवाद

उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है जो ज़िन्दा हों तो फिर ज़िन्दा नज़र आना ज़रूरी है, नई उम्रों की ख़ुदमुख़्तारियों को कौन समझाये कह...

Read more »

शनिवार ‘‘नो बैग’
शनिवार ‘‘नो बैग’

उ त्तर प्रदेश राज्य में शनिवार को ‘‘नो-स्कूल बैग डे’ घोषित करने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। वैसे, माना जा रहा है कि यह राज्य सरक...

Read more »

वर्तमान समय व बुढ़ापा
वर्तमान समय व बुढ़ापा

समय किस और जा रहा है, वक्त कैसे अपना रंग दिखा रहा है कुछ समझ ही न आ रहा । हमारी पहली पीढियां संस्कारों से ओतप्रोत थीं। जैसे - जैसे पाश्चा...

Read more »

बच्चों को हमारा साथ चाहिए महंगे खिलौने नहीं
बच्चों को हमारा साथ चाहिए महंगे खिलौने नहीं

भारत में बच्चों को 'लग्जरी लाइफ' देना बेहतर परवरिश का पैमाना माना जाने लगा है, जबकि सच्चाई उलट है। बच्चों की परवरिश हमारे ...

Read more »

क्या कहती है स्कूली बच्चों में लगातार बढ़ रही हिंसा
क्या कहती है स्कूली बच्चों में लगातार बढ़ रही हिंसा

हिंसा के महिमामंडन वाले समाज में अगर बच्चे इन आदतों को अपना रहे हैं, तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं। वे तीनों एक ही उम्र के थे, लगभग 14...

Read more »

उच्च शिक्षा में मानविकी
उच्च शिक्षा में मानविकी

ल गता है अब हम सब पूरी तरह ऐसा विश्वास कर बैठे हैं कि मनुष्य प्रगति और विकास कर रहा है, और इस प्रगति के मुख्य किरदार हैं विज्ञान एव...

Read more »

विद्या के मंदिर या गरीबों का लंगर
विद्या के मंदिर या गरीबों का लंगर

Mdm की व्यापक समीक्षा होने जा रही है कि वर्तमान प्रक्रिया ठीक है या उसमे सुधार होने चाहिये। मेरा सरकार से निवेदन है कि विद्या के ...

Read more »

 बच्चों को बीमार कर रही हैं बड़ों की उम्मीदें और दबाव
बच्चों को बीमार कर रही हैं बड़ों की उम्मीदें और दबाव

अध्ययन बता रहे हैं कि बाकी दुनिया की तरह भारत के भी एक चौथाई बच्चे अवसाद से ग्रस्त हैं। अ वसाद अब बड़ों की व्याधि नहीं रही, वह बच्चो...

Read more »

सुधार की बाट जोहती शिक्षा
सुधार की बाट जोहती शिक्षा

छात्रों को अंक प्राप्ति की होड़ से जोड़ने के बजाय उनका सर्वागीण विकास ही आदर्श शिक्षा व्यवस्था का लक्ष्य होना चाहिए उत्तर प्रदेश म...

Read more »
 
 
 
Top