बच्चों में जिज्ञासा पैदा कर हम उनका सीखना आसान कर सकते हैं और तब हम पायेंगे कि हमारा काम आसान होता जा रहा है
बच्चों में जिज्ञासा पैदा कर हम उनका सीखना आसान कर सकते हैं और तब हम पायेंगे कि हमारा काम आसान होता जा रहा है

शिक्षक का बच्चों के प्रति स्नेह एंव शिक्षण कार्य के प्रति समर्पण प्रत्यक्ष रूप से बच्चों एवं जन समु...

Read more »

भाषा तो भाषा ही रहेगी, क्यों ना इसे इसे बच्चों को बच्चों की भाषा में ही पढाएं?
भाषा तो भाषा ही रहेगी, क्यों ना इसे इसे बच्चों को बच्चों की भाषा में ही पढाएं?

प्राइमरी स्कूलों में पढ़ने वाले ज्यादातर बच्चे अपने घर-परिवार में बोली जाने वाली भाषा बोलते हैं। यह ...

Read more »

क्या वास्तव मे मूल्यांकन सिर्फ़ बच्चों का ही होता है? मूल्यांकन केवल बच्चों का ही नहीं होता वरन बच्चों द्वारा शिक्षकों का भी होता है
क्या वास्तव मे मूल्यांकन सिर्फ़ बच्चों का ही होता है? मूल्यांकन केवल बच्चों का ही नहीं होता वरन बच्चों द्वारा शिक्षकों का भी होता है

यदि आप थोड़ा सा भी सोंचे तो पायेंगे कि मानव किसी न किसी रूप मे अपना मूल्यांकन करता आया है और उस मू...

Read more »

सुविधादायी होने के फेर में कहीं हम शिक्षक साथी भटक तो नहीं रहे अपने कर्तव्य पथ से? आइये एक आत्मावलोकन यात्रा से गुजरें
सुविधादायी होने के फेर में कहीं हम शिक्षक साथी भटक तो नहीं रहे अपने कर्तव्य पथ से? आइये एक आत्मावलोकन यात्रा से गुजरें

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और ...

Read more »

प्रश्न अभी भी यही है कि,  ... "सोच तो बदली है, क्या परिस्थितियाँ भी बदलेंगी?"
प्रश्न अभी भी यही है कि, ... "सोच तो बदली है, क्या परिस्थितियाँ भी बदलेंगी?"

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और ल...

Read more »

आखिर कक्षा-कक्ष  से क्यूँ  पलायन करना चाहते हैं शिक्षक? कौन से ऐसे कारण है इस पलायन के?
आखिर कक्षा-कक्ष से क्यूँ पलायन करना चाहते हैं शिक्षक? कौन से ऐसे कारण है इस पलायन के?

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और ...

Read more »

व्याकरण और शब्दकोष, शुद्ध और अशुद्ध भाषा सब बाद मे, पहले बच्चे को भाषा तो बोलने दें और स्वाभाविक रूप से सीखने का मौका तो दें
व्याकरण और शब्दकोष, शुद्ध और अशुद्ध भाषा सब बाद मे, पहले बच्चे को भाषा तो बोलने दें और स्वाभाविक रूप से सीखने का मौका तो दें

भाषा और बोली एक ही बात है। एक समय जंहा ब्रज साहित्य की भाषा थी, आज उसकी जगह खड़ी बोली ने ले ली है। ...

Read more »

शिक्षा में शान्ति का मनोविज्ञान - भय रहित माहौल केवल बालकों के लिए ही महत्वपूर्ण है या फिर शिक्षकों के लिए भी यह उतना ही जरूरी है?
शिक्षा में शान्ति का मनोविज्ञान - भय रहित माहौल केवल बालकों के लिए ही महत्वपूर्ण है या फिर शिक्षकों के लिए भी यह उतना ही जरूरी है?

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं औ...

Read more »

गेहूँ काटे मा इनका न लगइबे तो फिर खइबे का? पारिवारिक आर्थिक हित साधने वाले बच्चे को स्कूल में कैसे लाया जाये, क्या यह नीति निर्धारकों की है प्राथमिकता?
गेहूँ काटे मा इनका न लगइबे तो फिर खइबे का? पारिवारिक आर्थिक हित साधने वाले बच्चे को स्कूल में कैसे लाया जाये, क्या यह नीति निर्धारकों की है प्राथमिकता?

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और ...

Read more »

हमारी शिक्षा समतामूलक हो - समतावादी लोकतांत्रिक व्यवस्था की यह मानसिक उलझन नहीं है क्या?
हमारी शिक्षा समतामूलक हो - समतावादी लोकतांत्रिक व्यवस्था की यह मानसिक उलझन नहीं है क्या?

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और ...

Read more »

प्राथमिक शिक्षा तब और अब - एक समग्र यात्रा एक कक्षा कक्षीय शिक्षक के नजरिए से
प्राथमिक शिक्षा तब और अब - एक समग्र यात्रा एक कक्षा कक्षीय शिक्षक के नजरिए से

प्राइमरी का मास्टर डॉट कॉम के फैलाव के साथ कई ऐसे साथी इस कड़ी में जुड़े जो विचारवान भी हैं और लग...

Read more »

हमारी स्कूली व्यवस्था मे ऐसा कुछ ज़रूर होना चाहिए जिससे शिक्षक सफलता का लगातार एहसास करते रहें
हमारी स्कूली व्यवस्था मे ऐसा कुछ ज़रूर होना चाहिए जिससे शिक्षक सफलता का लगातार एहसास करते रहें

शिक्षक सब समस्यायों की जड़ नहीं वरन समस्यायों से घिरा हुआ है।  फिर भी कई समस्यायों के हल शिक्षक क...

Read more »
 
 
 
Top